6
सगर नगर अछि मुह लटकौने
“शर्म सॅ सबकिया सिर झुकौने
कोन दोश हमर अछि अहिमे
पति के म़त्यु भेल अकाल
बतहिया पुछै छै सवाल
चैदह बितल चढिते पंद्रह
भ गेल हमर विवाह
सोलह बरख के मुॅह नहि देखलहु
भ गेल जीवन बदहाल
बतहिया पुछै छै सवाल
नाम अलच्छी सासु पुकारैथ
ससुर सदिखन कुलबोरनी
ननौद, दिअर मुॅह देख भागैथ
बितत कोना जीवन बेतरनी
बतहिया पुछै छै सवाल
सगर समाज मे चर्चा एकेर्टा
अबिते खेलकै “ाुषील बेटा
हमरा देखि रस्ता सब काटय
भ जाय किया यात्रा खराब
बतहिया पुछै छै सवाल
माय बाप नहि घुरी के ताकय
भौया-भौजी मुॅह नुकावय
नोर सुखायल नींद हरायल
एक-एक पल भेल पहाड
बतहिया पुछै छै सवाल
सास-ससुर सेट छिरकैया
ननद-दिअर परफ्रयुम लगबैया
कुकुरो साबुन रोज लगबैया
हमरा बेर में हैया बबाल
बतहिया पुछै छै सवाल
कनियॉ मरत बरत नहि दोश
वर मुर्हला पर कनियेक दोश
बर चाहे कतेको विवाह करताह
किया नहि होयत विधवा विवाह
बतहिया पुछै छै सवाल

दयाकान्त ‘‘दीपक‘‘

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. सास-ससुर सेट छिरकैया
    ननद-दिअर परफ्रयुम लगबैया

    bah dayakant ji, apoorva anand aabi gel

    उत्तर देंहटाएं
  2. dayanand ji svagat achhi, sochi vichari aakhir me ahan rachna post kaiye delahu aa seho jhamkauaa
    सगर नगर अछि मुह लटकौने
    “शर्म सॅ सबकिया सिर झुकौने
    कोन दोश हमर अछि अहिमे
    पति के म़त्यु भेल अकाल
    बतहिया पुछै छै सवाल
    चैदह बितल चढिते पंद्रह
    भ गेल हमर विवाह
    सोलह बरख के मुॅह नहि देखलहु
    भ गेल जीवन बदहाल
    बतहिया पुछै छै सवाल
    नाम अलच्छी सासु पुकारैथ
    ससुर सदिखन कुलबोरनी
    ननौद, दिअर मुॅह देख भागैथ
    बितत कोना जीवन बेतरनी
    बतहिया पुछै छै सवाल
    सगर समाज मे चर्चा एकेर्टा
    अबिते खेलकै “ाुषील बेटा
    हमरा देखि रस्ता सब काटय
    भ जाय किया यात्रा खराब
    बतहिया पुछै छै सवाल
    माय बाप नहि घुरी के ताकय
    भौया-भौजी मुॅह नुकावय
    नोर सुखायल नींद हरायल
    एक-एक पल भेल पहाड
    बतहिया पुछै छै सवाल
    सास-ससुर सेट छिरकैया
    ननद-दिअर परफ्रयुम लगबैया
    कुकुरो साबुन रोज लगबैया
    हमरा बेर में हैया बबाल
    बतहिया पुछै छै सवाल
    कनियॉ मरत बरत नहि दोश
    वर मुर्हला पर कनियेक दोश
    बर चाहे कतेको विवाह करताह
    किया नहि होयत विधवा विवाह
    बतहिया पुछै छै सवाल

    उत्तर देंहटाएं
  3. ehi blogak rachnashilta lajavab achhi, ehi sabh prayas ke chalte maithili jivit achhi

    उत्तर देंहटाएं
  4. दयाकांजी ब्लॉगमे अहाँक स्वागत अछि।
    पहिले रचनासँ अहाँ हृदय जीति लेलहुँ।

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035