गजल-जगदानंद झा 'मनु'

नहि हम कागजक आखर जानि पएलहुँ
नहि हम अहाँक करेज में सनि पएलहुँ

आब कें पतियाएत हमर मोन कें कनिको
अहाँ तs नहि केखनो हमर बनि पएलहुँ

बिन पानिक गति जेना माछक होएत छैक
ओहे गति हमर, हम नहि कानि पएलहुँ

अपन देश छोडि कs परदेश जा बसलहुँ
सुन्नर यादि छोडि नहि किछु आनि पएलहुँ

बर्खो-बर्ख हम रहलहुँ दूर परदेश में
एकरा कें अपन मनु नहि मनि पएलहुँ

(सरल वार्णिक बहर,वर्ण-१७)
***जगदानन्द झा 'मनु'

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ