चूकल


एकटा गद्य कविता


चूकल


डारिक चूकल बानर, आरिक चूकल किसान आ संसदसँ चूकल नेता तीनू एक समान।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ