सहरसा : कोसीक कोप केर प्रशासनिक अनदेखी सँ लोग आक्रोशित छथि - मिथिला दैनिक

Breaking

गुरुवार, 24 अगस्त 2017

सहरसा : कोसीक कोप केर प्रशासनिक अनदेखी सँ लोग आक्रोशित छथि

सहरसा। 24 अगस्त। जलप्रलय म' कोसी केर रौद्र रूप किनको सँ छुपल नहि अछि। बाढ़ि आओर कटाव केर तबाही झेल रहल स्थानीय लोग सभ प्रशासनिक अनदेखी सँ आक्रोशित छथि। बताओल जे रहल अछि कि नवहट्टा प्रखंड के दर्जनों गाम म' कोसीक कटाव लगातार जारी अछि। कोसीक कहर देखते देखैतसैकड़ों परिवार क' सड़क आनि देलनि। एहि त्रासदी म' सेहो जनप्रतिनिधि आओर प्रशासन स्थानीय लोग सभक सुधि लेब मुनासिब नहि बुझैत छथि।

गौरवशाली इतिहास राखै बला केदली पंचायत के केदली व असय गामक   अस्तित्व मेटबाक कगार पर पहुंच गेल अछि। एहिठाम कटाव केर तीव्रता  पल भरी म' सभक आशियाना उजैड़ देलनि आओर पीड़ित सभ क' अप्पन  सामान तक सुरक्षित करबाक मौका नहि देलनि।

कटाव केर दंश झेल रहल परिवार सभ सुरक्षित स्थान के खोज म' निकैल चुकल छथि। हालात एहेन अछि जिनका जता जगह भेट रहल अछि ओ ओतहि भागबाक लेल आतुर छथि। प्रशासन दिस सँ विस्थापित सभक लेल सरकारी मदैद नाकाफी साबित भ' रहल अछि। पुनर्वास करबाक कोनो प्रत्यक्ष व्यवस्था नहि अछि। 

स्थानीय लोग सभक कहब अछि कि कटाव केर सभसँ बेसी शिकार केदली, हाटी, असय, पहाड़पुर, सहित आधा दर्ज़न पंचायत के दर्ज़नों गाम अछि। बेहाल विस्थापित परिवार सभक लेल सरकारी मदैद खानापूर्ति बनि रही गेल अछि।

स्थानीय समाजसेवी केशर कुमार कहलनि कि 2008 केर आपदा सँ प्रशासन क' कुनु सबक नहि भेटल। प्रशासन पहिने सँ कुनु डेग नहि उठाओल गेल। राहत विस्थापन शिविर सभ म' पीड़ित सभक लेल एखन धरी मूलभूत सुविधा आओर राहत सामग्री नहि पहुँचल अछि।

बहरहाल, एक दिस लोग सभक भीतर सभ किछु हरेबाक ग़म अछि तेँ दोसर दिस सरकारी निष्क्रियता आओर उदासीनता केर खिलाफ आक्रोश। विस्थापित सभक आक्रोश सड़क पर आबे ओहिसँ पहिने जरूरत अच्छी  पीड़त परिवार सभक शीघ्र मदैद काएल जाए।