0

बेगूसराय। 11 अप्रैल। मजहब केर नाम पर एक दोसरक विरोध करै बला हिन्दू आओर मुसलमान सभक लेल बखरी के हनुमान मंदिर एक सुंदर उदाहरण बनल अछि। बखरी के एहि मंदिरक निर्माण हिन्दु आओर मुसलमान सभ एक साथ मिल केलनि अछि। ओतहि मंदिरक लेल जमीन दान द' एक मुसलमान देशक समक्ष धर्म के एक नवा परिभाषा लिखने छथि। बखरी हनुमान मंदिर केर निर्माण एहि क्षेत्र मे आपसी सौहार्दक लेल  चर्चा मे बनल अछि। 

बेगूसराय जिला मे  हिंदू आओर मुसलमान एक संग मिल हनुमान मंदिर केर जीर्णोद्धार करि सांप्रदायिक सौहार्द केर अनोखा मिसाल पेश कएलनि अछि। जिला के बखरी क्षेत्र मे एहि मंदिरक लेल मुस्लिम परिवार सभ खाली अपन जमीन दान नहि देलनि, बल्कि अपन क्षमताक हिसाब सँ आर्थिक मदद आओर श्रमदान सेहो देलनि।

अपने के बता दी बेगूसराय जिलाक बखरी के शहीद चौक पर स्थापित प्राचीन हनुमान मंदिर बहुत जर्जर भ' गेल छल। मंदिरक मूर्ति सेहो खंडित भ' गेल छल। बखरी थाना से महज किछु गजक दूरी पर दशकों पूर्व सँ हनुमान केर खंडित मूर्ति लागल छल। एहि मंदिरक लेल अपन भूमि नहि होयबाक कारण जखन भी एहि मंदिर के निर्माणक प्रयास होयत छल ओहि समय तनाव केर स्थिति ठाढ़ भ' जायत छल। परिणाम स्वरूप नहि  मंदिर बैन पाबैत छल नहि मूर्ति।

मंदिर निर्माणक लेल बैसार आयोजित भेल। जाहिमे स्वेच्छा सँ मो. मुर्तुजा मंदिर निर्माण करबाक लेल अपन जमीन दान मे देलनि। मो. मुर्तुजा कहलनि कि मंदिरक लेल भूमि दान करबा मे हुनका बहुत प्रसन्नता भेलनि। सभ धर्मक लोग हुनकर प्रशंसा कएलनि।

रामनवमी के दिन भगवान महावीर के नवनिर्मित मूर्ति केर प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम केर आयोजन स्थानीय पंडित सभक द्वारा वैदिक रीति के अनुसार कायल गेल। एहि क्रम मे बहुत संख्या मे हिन्दु व मुस्लिम भाई मौजूद छलैथ। 

प्राण प्रतिष्ठा कार्य पूर्ण भेलाक पश्चात बहुत संख्या मे मुस्लिम बंधु लोकनि भगवान महावीर केर पूजा अर्चना करि प्रसाद ग्रहण करि गंगा जमुनी संस्कृति के आओर मजबूती प्रदान कएलनि। पूजा केर पश्चात पूर्व मुखिया मो. तुफैल, मो. सलाउद्दीन, मो. मुर्तुजा, अनिता देवी आदि लोकनि कहलनि  कि एहिठामक लोग दशकों से आपसी सौहार्द बना क' निक माहौल मे निवास करते छथि। 

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035