1

मुम्बई। 03 दिसम्बर। मशहूर फिल्म निर्देशक प्रकाश झा केर कहब छैन्ह कि भारत म' फिल्मकार सभ क' अभिव्यक्ति केर आजादी नहि अछि। हुनकर कहब छैन्ह कि कुनु फिल्मकार केँ लेल देश केर राजनीतिक सच्चाई देखायब संभव नहि अछि। हकीकत केँ करीब खासतौर सँ राजनीतिक विषय सँ जूड़ल फ़िल्म बनेबाक लेल चिन्हल जाय बला फिल्म निर्माता प्रकाश झा कहलनि कि भारत म' पूरा तरह सँ राजनीतिक फिल्म नहि बनाओल जे सकैत अछि, किएक जे देश म' अभिव्यक्ति केर आजादी नहि अछि। 

आगा ओ कहला कि अगर अहाँ सोचैत छी कि एक एहेन फिल्म बनाओल जाय, जाहिमे अहाँ कुनु राजनीतिक किरदार के बारे म' ओ सभ देखा सकी जे अहाँ देखबे चाहैत छी, तेँ एहि तरहक फ़िल्म बनायब अप्पन देश म' संभव नहि अछि। देश म' हालात एहेन अछि कि अगर अहाँ फिल्म म' किनको नाम या संगठन केर नाम लैत छी, जेँ कुनु खास समुदाय या राजनीतिक पार्टी सँ जुडल होय तेँ किछ लोग अहाँक हत्या क' करा देता। 

फिल्म निर्देशक प्रकाश झा कहलनि कि हम अप्पन फ़िल्म सभ बनबैत घरी एहि बात क' खूब नीक जोका महसूस केलहुँ कि हमरा बतौर फिल्मकार अभिव्यक्ति केर आजादी नहि अछि। हाल - फिलहाल म' एहि म' सुधार केर गुंजाइश सेहो नहि देखार दैत अछि। 

अपने क' बता दी प्रकाश झा राजनीति, अपहरण, आरक्षण, गंगाजल, चक्रव्यूह, सत्याग्रह जेहेन फ़िल्म सभ बनेना छैथ। जाहीकेँ किरदार सभ क' दर्शक कतो बिहार केँ राजनता सँ तेँ कतो अन्ना हजारे सँ तेँ कतो गांधी नेहरू परिवार सँ जुडल बुझैत छैथ। कैको फिल्म लेल प्रकाश झा क' विरोधक सेहो सामना करे पड़ल छैन्ह।

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. राजनीति,अपहरण,गंगाजल,चक्रब्यूह एवं सत्या सन फिल्म बनेलाक बादो यदि प्रकाशझा कें इ बुझना जाई छनि जे एत अभिब्यक्ति क स्वतंत्रता नइ अछि त पता नहि हुनका नजरि म अभिब्यक्तिक स्वतंत्रता की होई छै ???

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035