मधुबनी में बदहाल पर्यटन स्थल के संवार के दिशा में प्रशासन बढ़ेलक कदम - मिथिला दैनिक

Breaking

शनिवार, 3 दिसंबर 2016

मधुबनी में बदहाल पर्यटन स्थल के संवार के दिशा में प्रशासन बढ़ेलक कदम


मधुबनी। मधुबनी जिला में बदहाल पर्यटन स्थल के संवार के दिशा में प्रशासन एक आर कदम बढ़ेलक। एही के लेल पर्यटन विभाग के सचिव के निर्देश पर पंचवर्षीय पर्यटन रोडमैप तैयार कैल गेला । जाहि में जिला के एतिहासिक, धार्मिक एवं दर्शनीय स्थान के शामिल कैल गेल अछि 
फिलहाल जिला के पंडौल, कलुआही, बाबूबरही, बेनीपट्टी, बिस्फी, मधवापुर, हरलाखी, झंझारपुर व लखनौर प्रखंडों के बीडीओ अपन प्रखंड क्षेत्र के जाहि पर्यटन स्थल के सूची डीएम के समर्पित कएने छलाह ओहि के एही में शामिल कैल गेला। रोडमैप में शामिल पर्यटन स्थल के इतिहास, विशेषता, आब वाला पर्यटक के संख्या, जमीन उपलब्धता आर जिला मुख्यालय सs दूरी आदि के  उल्लेख कैल गेल अछि 

रोडमैप में शामिल केएल गेल पर्यटन स्थल
कलनेश्वर स्थान, कलना (हरलाखी), विश्वामित्र स्थान, विशौल (हरलाखी), गिरिजा मंदिर, फुलहर (हरलाखी), मनोकामनानाथ मंदिर, मनोहरपुर (हरलाखी), राजा विलाट गढ़, मलमल (कलुआही), याज्ञवाल्य ऋषि आश्रम, जगवन (बिस्फी), विद्यापति जन्म डीह, बिस्फी, भैरवा उगना महादेव स्थान, भैरवा (बिस्फी), श्रृंगी ऋषि आश्रम, ¨सगिया (बिस्फी), विष्णु प्रतिमा, लक्ष्मीनाथ गोसाई कुटी, लखनौर, मैवी ग्राम के टीला (लखनौर), उच्चैठ भगवती स्थान, बेनीपट्टी, परसाधाम सूर्य मंदिर, झंझारपुर, राजा बलि गढ़, पचरूखी (बाबूबरही), शिव लक्ष्मी नारायण भगवान मंदिर, बाबूबरही, माता भगवती स्थान छाती, बरुआर (बाबूबरही), आयाची डीह, सरसोपाही (पंडौल), भुवनेश्वर स्थान, नाहर (पंडौल), उग्रनाथ महादेव मंदिर, भवानीपुर (पंडौल), बलिया भैरव प्रतिमा (पंडौल), गुरुद्वारा, मधवापुर।