0

आइ शरद पूर्णिमा थिक । संपूर्ण मिथिला मे कोजागरा पाबनि मनौल जा रहल छि । अजुका दिन पान आ मखान खयबाक परंपरा अछि ।
गाम गाम मे आइ वर सबके चुमौनआ मखान बँटेबाक अनघोल । आउ प्रस्तुत करी एकटा तप्पत रचना ।
कोजागरा
--------------
मिथिलाक घर घर मे पूर्णिमाक अवसर मे भ’ रहलै आइ चुमान
सगरे बंटा रहल देखू मखान- २
शरद ऋतु केर पूनम चाने
अनुपम लागय आजु सोहाने 
भरि गामक भेलइ जुटान
सगरे बंटा रहल देखू मखान ।
बेटी बला सब पठौलनि भाड़े
बेटा बला सबके चिक्का छनि पारे
समधिक छाती उतान
सगरे बंटा रहल देखू मखान ।
सब आँगन चलि रहल कौड़ी पचीसी
भौजीक दांत देखू निकलल बतीसी
की बच्चा बूढ़ आ जवान
सगरे बंटा रहल देखू मखान ।
आँजुर आँजुर मेवा बतासा
बाजि रहल ढोलक झालि संग तासा
मणिकांतक मुँह लाल पान 
सगरे बंटा रहल देखू मखान ।
             - मणिकांत झा , दरभंगा ।
                       १५-१०-१६
                         कोजागरा ।

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035