0

चौरचन पाबनिक शुभकामना
----------------------------
कारी मेघक घोघ तर सँ
उगलनि चौठी चान
मिथिले टा मे ई पाबनि से
हमर से दियमान
गोबर नीपल अरिपन पारल
आँगन करै चकमक
मटकूरी मे पौरल दही देखू
उज्जर दप दप
हाथ चँगेड़ी डाली साजल
अनुपम रुप सुहावन
खीर पिरुकिया टिकरी सेहो
लागि रहल मनभावन
गेन्हारी सागक देखू घर घर मे
आइ चलती
ब्राह्मण भोजन सब आँगन मे
मारू बैसि कय पलथी
मणिकांतो गदगद मन सँ
ई रचना कय रहला
चौरचन पाबनि के अवसर पर
शुभकामना दय रहला ।।
    - मणिकांत झा, दरभंगा
          ०४-०९-१६

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035