0

जखन बारी पटूआ लागत तीत ,
तखन खायब कि कहु यउ मीत !
परदेश जाय किछुओ करब हम ,
परंच खेती पथारी बूझैत निखित !!

निज धर्म केर बिसरि रहल छी ,
नीक लगैत अछि दोसरक रीत !
मातृ भषा निज भूमि छोड़ि कऽ ,
भय गेल अछि अनठिया संऽ प्रीत !!

जे जन अप्पन आन बनि गेल छथि,
गामक ठेकान नहि ओ बनलहि हित !
अपन कैंऽ हम आन बुझब जाँउ ,
कोना ने होयत कहु तखन अहित !!

मधुर वचन एतय कियो नहि बुझथि,
कर्कश कर्णकटू केर ओ कहथि संगीत  !
अहिंसा केर दूत्कारल जाइत सबतरि ,
कारण एतवहिं पर्याप्त हिंसा'क जीत !!

मूर्ख गवार होशियार वनि वनि फिरथि,
विद्वतजन तकरहि संऽ सीखथि नीति !
"बमबम" सदिखन कहथि रहथि एतवहिं ,
विनाश'क काल होयत  वुद्धिए विपरीत !!

   वी०सी०झा"बमबम"
                                    कैथिनियाँ

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035