0
नालंदा १६ जुलाय :- नालंदा महाविहारक भग्नाबशेष के बिश्व धरोहर घोषित कएल  गेल दरअसल में युनेशको के बिश्व धरोहर चुनई बला कमिटी एही तरहक निर्णय लेलक, बिश्व केर चारी स्थानक सूचि में स्थान देल गेल एही सूचि में चिन,ईरान,माइक्रोनेशिया केर पूरातातविक स्थल के अतरिक्त बिहारक नालंदा बिश्व्विद्यालय के भग्नाबशेष के बिश्व धरोहरक सूची में शामिल कएल गेल.
नालंदा बिश्व्वविद्यालय के स्थापना ४१३ ईस्वी में भेल संगहिं ७८० बर्ष धरी बौद्ध धर्म दर्शन,चिकित्सा, गणित,वास्तु,धातु आर अंतरीक्षक बिज्ञान के अध्यन के बिश्व प्रसिद्ध केंद्र सेहो रहल ,११९३ के हमला में एही बिश्वविद्यालय के नस्ट क देल गेल छल, बिहारक मुख्य मंत्री नितीश कुमार ख़ुशी जतबैत कहलैन्ह जे राज्य सरकार आ केंद्र सरकार के संयुक्त पहल पर नालंदा महाविहार के भग्नाबशेष यूनेस्को द्वारा बिश्व धरोहर घोषित हेबाक जानकारी भेटल।।
नितीश कुमार युनेशको में प्रस्ताव केर समर्थन करइ बला सदस्य हेतु संस्कृति मंत्रालय,भारत सरकार,यूनेस्को में भारतीय दूतावास सहित सब अधिकारी के प्रयश के लेल धन्यबाद ज्ञापन कैलैन्ह।।

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035