मैयाक गीत @ जगदानन्द झा 'मनु', - मिथिला दैनिक

Breaking

शुक्रवार, 2 अगस्त 2013

मैयाक गीत @ जगदानन्द झा 'मनु',


ई जे साँझ परलै मैया
की हमरे जीवनमे
मुनल आँखि तकबै कहिया
हमरो जीवनमे।।

सगर दुनियाँकेँ चिलका
माएक आँचर तर
हम अभागल कोना
भटकै छी दर-दर।।

घुरि, बुझि आबो आबू
'मनु' अबुद्धि नेना
अपन सिनेहसँ
किएक बिसरलहुँ ऐना।।