1
अप्पन मिथिला .....जेना नंदन कानन
जतऽ बहए सोन गंगा कोसी निरंजन

आउ कने लऽ चली जनकपुर धामवां

राम जी सीता जीक विवाह स्थानवां

सीता जी स्वयंवर, हुनके आस्नान्वान
सोनमती दूधमती जलेश्वर धाम वान

अप्पन मिथिला ....अप्पन मिथिला ....अप्पन मिथिला

चलू कने सब कियो ....मधुबनी नगरिया
कला चित्रकारी करे सभके उजरिया ...

दरभंगाक राज पाट...महल अटरिया
विद्यापतिक कविता अति मनोहरिया ,

सौराठ सभा गाछी के तँ अद्भुत नजरिया
अप्पन मिथिला ....अप्पन मिथिला ...अप्पन मिथिला

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035